Home Agriculture Duck Farming बतख पालन कारोबार के फायदे और बतख पालन को कारोबार...

Duck Farming बतख पालन कारोबार के फायदे और बतख पालन को कारोबार कैसे शुरू करे हिंदी में

0
Advertisement

Duck Farming का हिंदी में मतलब बतख पालन पालन होता है। जैसे की मुर्गी पालन किया जाता है वैसे ही बतख पालन भी किया जाता है। हम आपको बता दे कि मुर्गी की तरह बतख भी अंडे देती है और इनके अंडे को खाया जाता है। बतख पालन (Duck Farming) करना भारत में कोई नया नहीं है।

भारत के काफी किसान बतख पालन काफी लम्बे समय करते आ रहे है। बतख पालन भी खेती का ही एक हिस्सा है। भारत में काफी किसान बतख पालन (Duck Farming) दूसरे कमाई के जरिया बनाने के लिए करते है। तो काफी लोग इस बतख पालन बिज़नेस के जरिए काफी पैसे भी कमा रहे है।

बतख पालन में छोटे बतख को फार्म में रख कर पाला जाता है। उस फार्म में वह सब मौजूद होता है जो बतख पालन के लिए जरुरी होते है। इस फार्म में बतख के लिए खाना और पानी सब दिया जाता है। हम आपको बता दे कि बतख पालन के लिए तालाब, नदी या कोई और पानी का सोर्द्ध काफी जरुरी होता है।

बतख पालन (Duck Farming) भारत में सफल कारोबार में से एक है।

यह भी पढ़ें: भारत में किसान के लिए तरबूज की खेती की जानकारी हिंदी में

बतख पालन के फायदे

Benefits of duck farming

तो पहले हम आपको बतख पालन फायदे बता देते है। जिससे आपको पता चले की इस कारोबार के कितने फायदे है। इसके बाद हम आपको यह बताएगे कि यह कारोबार आप कैसे शुरू कर सकते है।

शुरू करना काफी आसान

इस कारोबार की जो सबसे अच्छी और फायदे मंद बात है। वह यह है की इसे आप काफी आसानी से शुरू कर सकते है। अगर आप चाहे तो आप ऐसे मात्र 500 से 1000 रूपए में शुरू कर सकते है। बस आपको शुरू में दो बतख खरीदने की जरूरत होगी।

आसान देख भाल

बतख काफी समझदार और चालक होती है। यह काफी कुछ खुद करने में सछम होती है। ऐसी कारण इनकी देख भाल करना उतना जरुरी नहीं होता है। यह माहौल के हिसाब से खुद में परिवर्तन कर लेती है।

अंडों की चिंता नहीं

काफी लोगो का ऐसा कहना होता है कि मुर्गिया दिन में अंडे देती है। तो अगर फार्म छोटा होता है तो मुर्गी दिन उजाले में अंडे इधर उधर दे है। जिसे खोजने में काफी दिकत होती है। हम आपको बता दे कि बतख पालन के लिए पानी की काफी जरूरत होती है तो अगर बतख पानी में या इधर उधर अंडे देती तो काफी दिकत होता। पर बतख रात या काफी सुबह अंडे देती है। इसके कारण अंडे जगह पर होते है और बड़ी आसानी से मिल जाते है।

बतख की आयु

हम आपको बता दे की बतख की आयु काफी लम्बी होती है। अगर बात करे कि मुर्गी से बतख की आयु लम्बी होती है या नहीं। तो काफी बार लम्बी उम्र देखा गया है।

Advertisement

बतख के बीमारी

हम आपको यह भी बता दे कि बतख काफी कम बीमार पड़ती है। और यह तो मुर्गी के मुकाबले कुछ भी बीमार नहीं होती है। इनका शरीर काफी मजबूत होता है।

फायदे मंद कारोबार

हम आपको बता बतख पालन एक काफी फायदे मंद कारोबार है। यह इसलिए है क्योंकि बाजार में बतख के अंडे और मांस की काफी मांग देखने को मिलती है। बतख के अंडे मुर्गी दुगने या उसे भी ज्यादा महगा बिकता है। यह इसलिए क्योंकि बतख के अंडे काफी फायदे मंद होते है।

बतख पालन (Duck Farming) कैसे शुरू करे?

How to start duck farming

तो आज हम आपको कुछ तरीके बताने वाले है जो आपको बतख पालन के कारोबार शुरू करने में काफी मदद करेंगे। यह तरीके काफी सफल तरीको में से एक है। तो अगर आप बतख पालन शुरू कर रहे है तो यह तरीके आपको काफी मदद करेंगे।

नस्ल का चयन करे

इस कारोबार को शुरू करने को जो सबसे अहम तरीका और जरुरी है। नस्ल का चयन करना। वैसे तो बतख पालन (Duck Farming) के लिए काफी तरह के बतख आते है। इसके लिए आपको यह पा लगान होगा कि आप बतख पालन क्यों कर रहे है। क्या आप बतख पालन अंडो के लिए कर रहे है या मांस के लिए।

जब आप यह तैय कर लगे तो इसके हिसाब से ही बतख के नस्ल का चयन करे।

Duck Farming: फार्म का क्षेत्रफल

इस कारोबार में जो दूसरा काम आपको करना है, वह यह तैय कर लेना होगा की आपका फार्म कितना बड़ा होगा और उसमे कितने बतख रखे या पाले जाएगी। हम आपको बता दे की जीतनी ज्यादा बतख को पाली जाएगी उतना ही फायदा होगा। तो यह आपके ऊपर निर्भर करता है की आप कितने बतख को पालते है।

विशेषज्ञ की सलाह ले

जो तीसरा कदम कदम बतख पालन(Duck Farming) में लेना होगा वह है कि एक अच्छे विशेषज्ञ से सलाह लेना होगा। आप अपने नजदीकी कृषि विभाग से सपर्क कर के यह जानकारी जरूर ले कि आपके क्षेत्र में बतख पालन कितना सफल हो सकता है। यह आपको काफी मदद करेंगे।

Duck Farming: पैसे को निवेश करे

जब आप ऊपर के दिए गए सभी सलाहों समझ जाए। और अपने क्षेत्र के बारे में सब कुछ पता लगा ले तो अब आप अपने बतख के पालन कारोबार में पैसे का निवेश करे। जब आप पैसो का निवेश करेंगे तभी आपका सोचा कारोबार सचाई और असलियत रूप ले पायेगी।

यह भी पढ़ें: खरगोश पालन का व्यवसाय

Advertisement

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version