दूसरों की तारीफ करने का तरीका, ऐसे तरीको से किसी की भी अच्छी तारीफ किया जा सकता है

अगर किसी के काफी पास जाना हो या किसी के नजरो में अपनी अच्छी पहचान बनाना हो। इसके लिए सामने वाले की तारीफ़ करनी होती है।

अगर आपको को दुसरो की तारीफ करने का सही तरीका पता नहीं होगा तो आपकी तारीफ का दूसरे पर अच्छा प्रभाव नहीं पड़ेगा। बल्कि उसका उल्टा प्रभाव पड़ सकता है।

अगर आपको भी दूसरे की तारीफ (dusro ki tarif) करनी है तो आपको सही और अच्छी तारीफ़ करने का तरीका पता होना चाहिए।

चलिए हम आपको वह तरीके बताते है जिससे आप दूसरो की तारीफ काफी अच्छे से कर सकते है।

यह भी पढ़ें: दूसरों को खुश कैसे रखे

दूसरों की तारीफ करने का सही तरीका

दूसरों की तारीफ करने का सही तरीका
दूसरों की तारीफ करने का सही तरीका

सच्ची तारीफ करें

दूसरे का तारीफ करने का पहला नियम है कि किसी की सच्ची तारीफ करें। अगर आप दूसरो की झूठी तारीफ करेंगे तो दूसरे तुरंत समझ जाएगे की आप झूठी तारीफ कर रहे है। जितना सच्ची तारीफ करेंगे उतना ही अच्छा होगा। हर कोई अपने बारे में सब कुछ जानता है।

वह किसी काम में अच्छा और किस काम में बुरा है। उसके अंदर क्या खासियत है और कौन सी उसकी बुरी आदत है। यह सब कुछ हर कोई अपने बारे में अच्छे से जानता है।

ऐसे में अगर हम किसी तारीफ उस काम के लिए करते है जिस काम में वह अच्छा है तो यह तारीफ सच्ची तारीफ होगी। इसका सही असर देखने को मिलेगा। वही अगर किसी की तारीफ उस काम पर किया जाए जिस काम में वह अच्छा नहीं है तो यह तारीफ बुरी तारीफ साबित हो सकती है।

सही समय पर तारीफ करें

जैसे किसी भी काम को करने का एक सही समय होता है ठीक उसी तरह तारीफ करने का भी सही समय होता है। अगर सही समय पर सही तारीफ की जाए तो वह तारीफ काफी सफल हो सकती है। अगर आप किसी के तारीफ करना चाहते है तो सही समय का इंतजार करे। सही समय पर ही सही तारीफ करे।

उदाहरण के तौर पर किसी की तारीफ उस समय करें जब वह तारीफ सुनना चाहता हो, जैसे किसी काम के ख़त्म हो जाने पर, किसी काम में सफल हो जानें। इसके साथ ही वह समय तारीफ करने का अच्छा होता है जब कोई उदास हो। उसकी तारीफ करके उसे खुश करे और अच्छा महसूस कराए।

एक ही तारीफ बार-बार न करे

अगर एक ही बात को कोई बार-बार कहे तो हमें चिढ़ होने लगता है। उसी प्रकार अगर एक ही तारीफ को किसी के सामने बार-बार कहा जाए तो सामने वाले को चिढ़ होने लगती है। इसलिए एक ही तारीफ बार न कर। कम तारीफ ही करे पर नया और अच्छा तारीफ करे।

नई तारीफ करने के लिए तारीफ करने वाले व्यक्ति के बारे में कुछ नया जाने। जाने की उसे क्या और करना पसंद है और किसी काम में वह अच्छा हैं। इसके बाद आपको नई तारीफ करने के बहुत सी जानकारी मिल जाएगी।

पीठ पीछे भी तारीफ करें

किसी के सामने कितना भी तारीफ कर लिया जाए पर अगर उसके पीठ पीछे उसकी तारीफ न किया जाए। या फिर उसकी बुराई किया जाए है। तो फिर तारीफ करने का कोई फायदा नहीं मिलेगा। वह सब तारीफ जो उस व्यक्ति के सामने किया गया है उस तारीफ का बुरा प्रभाव ही पड़ेगा।

जितना किसी की तारीफ उसके सामने करे उससे ज्यादा उस व्यक्ति की तारीफ उसकी पीठ पीछे करें। हम जो भी बात किसी तीसरे व्यक्ति से करते है वह बात उस दूसरे व्यक्ति को पता चल ही जाता है जिसकी तारीफ हम करते है या फिर जिसको हम अपनी तारीफ से खुश करना चाहते है। इसलिए सभी के बारे में अच्छे बोले।

मन से तारीफ करें

जो भी तारीफ आपके मन से निकलेगी वह सब तारीफ दुसरो के सीधे मन को छुएगी। अगर आपकी किसी की भी तारीफ करनी हो तो आपने मन के अंदर से करे। वह तारीफ काफी अच्छी होगी और सामने वाले को पसंद भी आएगी।

कोई भी काम जो मन से किया जाता है तो उस काम में बहुत ज्यादा सफलता देखने को मिलता है। इसलिए किसी का तारीफ भी मन से करें। किसी की तारीफ करने के लिए आपके मन में जो भी शब्द आए उसे ही तारीफ करते समय बोले।

यह भी पढ़ें: व्यक्तित्व में सुधार कैसे करें

खुद ही तारीफ करें

नहीं दूसरे किसी से किसी का तारीफ करवाए न ही इंटरनेट के जरिये पढ़ी हुई तारीफ बात को तारीफ में बोले। खुद ही किसी का तारीफ करे।

अगर आपको तारीफ करना भी नहीं आता तो भी खुद ही तारीफ करे। इससे आपको तारीफ करने का सही तरीका पता चलेगा और खुद से की हुई तारीफ दुसरो को भी पसंद आएगी।

समय के साथ आप तारीफ करने में बहुत कुछ सीख लेंगे। आपकी तारीफ करने का तरीका इतना अच्छा हो जाएगा कि आपके तारीफ को हर कोई सुनना चाहेगा।

तारीफ के लिए सही शब्द का चयन करें

शब्दों का चयन तारीफ को अच्छा या बुरा बना सकता है। जब भी तारीफ करे तो ऐसे शब्द का चयन करें जो शब्द दिल में उतर सके। एक ही विचार को कहने के लिए बहुत से शब्द होते है। यह आप तारीफ करने वाले पर निर्भर करता है कि वह कब किसकी तारीफ कर रह है।

सबसे पहले आपको तारीफ करने वाले शब्दों का ज्ञान होना चाहिए। उसके बाद उसे इस्तेमाल करने का तरीका भी पता होना चाहिए। इसके लिए आप शायरी, या और कुछ पढ़ सकते है जिसकी मदद से आपको काफी अच्छी शब्द का ज्ञान हो जाएगा।

यह भी पढ़ें: अपनी बात दूसरों से कैसे मनवाए

अंत में

तो यह वह दूसरे की तारीफ (dusro ki tarif) करने के तरीके है जिससे आप दूसरो की अच्छी तारीफ कर सकते है। यहाँ पर हमने दूसरों के तारीफ करने के तरीके को जाना। हम तारीफ करने के तरीके से हम किसी की अच्छी तारीफ करके उसे खुश किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here