मन को शांत करने के बेस्ट 10 उपाय हिंदी में man shant karne ke upay

मन बहुत ही चंचल होता है। मन कभी यह होता है तो कभी मन कही और होता है। हमें भले ही कही आने जाने में समय लग जाता है लकिन मन को कहानी जाने और आने में समय नहीं लगता है। मन की इस आदत के कारण ही बहुत बार कई मुश्किल का जन्म होता है। जब हमें किसी चीज पर ध्यान देना होता है तो मन इधर से उधर भागने लगता है।

जैसे अगर एक छात्र को पढ़ाई करना है और जब वह पढ़ाई करने बैठता है तो उसका मन इधर-उधर होने लगता है। अपने मन को रोकने के लिए मन को शांत करना होता है। मन को शांत कैसे करे। यह बहुत से लग जाना चाहते है। मन को शांत करना नामुमकिन तो नहीं होता है लेकिन मन को शांत करने के लिए टिप्स और उपाय को सही तरीके से इस्तेमाल करना जरुरी होता है।

जब तक कोई अपने मन को शांत करना न सीख ले तब तक वह कुछ और सही से नहीं सीख सकता है। मन में समय-समय पर तरह-तरह के विचार आते रहते है। यह विचार भले ही अच्छे हो सकते है लेकिन इन विचार के आने का समय अगर सही ना हो तो यह नुकसान पहुंचाते है।

हर एक व्यक्ति जो अपने क्षेत्र में सफल है वह अपने मन को शांत करना अच्छे तरीके से जानते है। वह जानते है कि उनके मन में कब कैसे विचार आ सकते है और उस विचार को कैसे हल करके मन को शांत करना है।

यह भी पढ़े: दिमाग को फ्रेश करने के टिप्स

मन को शांत करने के उपाय

चालिये हम मन को शांत करने के उपाय के जानते है। हम यह जाएंगे की कभी भी जब हमारा मन चंचल हो जाए तब हम कैसे अपने मन को शांत कर सकते है।

योगा करें

अपने मन को शांत करने का सबसे अच्छा उपाय है कि योगा किया जाए। योगा करने से दिमाग और मन दोनों ही शांत होते है। योगा का मुख्य फायदा होता है मन को शांत करना है। योगा की मदद से काफी कम समय में मन को शांत किया जा सकता है। योगा के कुछ ऐसे प्रकार भी होते है जिनकी मदद से बहुत समय के लिए दिमाग को शांत किया जा सकता है।

अपनी साँस पर ध्यान दे

कुछ लोगों का मन कुछ-कुछ समय पर ही बेचैन होने लगता है। ऐसे व्यक्ति को अपने मन को शांत करने के लिए अपनी साँस पर पूरा ध्यान देना चाहिए। जब वह शुरू के कुछ समय तक अपने साँस पर ध्यान देंगे तो उसके लिए यह मुश्किल हो सकता है। लेकिन कुछ समय बाद ही वह आसानी के साथ अपने साँस पर ध्यान देने लगेंगे और उनका मन तब तक शांत हो चूका होगा।

अकेले रहना पसंद करें

अकेले रहने से मन काफी हद तक शांत रहता है। अकेले रहने से हमारे पास किसी भी प्रकार का कोई चिंता नहीं होती है। अकेले रहने से बस हम ही अपने पास रहते है। हम देखते है कि कब हमारा मन शांत रहता है और कब हमारे मन में बेचैन रहता है। इसके साथ ही बहुत कुछ हम खुद के बारे में जान सकते है। जब हमारे पास हमारे बारे में इतना ज्ञान रहेंगे तब हम अपने मन को कभी भी शांत कर सकते है।

यह भी पढ़े: अकेले रहने के ये फायदे

कुछ समय पैदल चलए

कुछ समय पैदल चलने से भी दिमाग शांत होता है। वाक करना यानी पैदल चलना भी एक तरह का व्यायाम ही है। पैदल चलना सीधे तौर पर दिमाग पर असर करता है और जिसके कारण मन शांत होता है।

अच्छी बातें सुनने

कभी ऐसा भी होता है कि किसी बात या घटना के कारण भी मन बैचैन हो जाता है। ऐसे में मन को शांत करने के लिए अच्छी और प्रेरित करने वाली विचार और बातें सुनना चाहिए। यह मन को काफी आसानी के साथ कम से में शांत कर देंगे।

यह भी पढ़े: बेस्ट टेंशन दूर करने के उपाय

किसी भी प्रकार के नशा का सेवन ना करे

नशा इंसान के कई नुकसान का कारण बनता है। यह नशा भी मन की बैचेनी का कारण भी बन सकता है। अगर आपका मन शांत नहीं रहता है और अगर आप नशे का सेवन करते है। तो आपके मन का शांत ना होने का कारण आपका नशा है। अपने मन को शांत करने के लिए हर तरह के नशा को छोड़ दे।

पहले की बात को याद ना करें

बीते हुआ कल कभी नहीं आता है। लेकिन बीते हुए कल को याद करने से मन बेचैन जरूर होता है और फिर मन को शांत और दिमाग को शांत करना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में अगर किसी के बीते हुए कल में कुछ भी बुरा या अच्छा हुआ है तो उसे याद नहीं करना चाहिए। जब भी बीते कल को याद किया जाता है तब-तब मन शांत से बेचैन हो जाता है।

अपनी सफलता को देखे

सफलता को देखने पर मन ख़ुशी से झूमने लगता है। सफलता को देखने और याद करने पर मन प्रेरित होता है। इसके साथ ही मन में एक शांति भी आती है। वही अपने असफलता को याद करने से मन में बेचैनी बढ़ जाता है। इसलिए चाहिए कि अपने मन को शांत करने के लिए अपने सफलता को याद किया जाए और असफलता को याद ना किया जाए।

एक साथ एक से ज्यादा काम ना करें

मल्टीटास्किंग को करने की कोशिश बहुत से लोग करना चाहते है। मल्टीटास्किंग का मतलब होता है एक समय पर एक से ज्यादा काम को करना। अभी इंसान का दिमाग मल्टीटास्किंग करने के लायक नहीं है। मल्टीटास्किंग करने से एक भी काम सही तरीके से नहीं हूँ पाता है। जिसके कारण एक व्यक्ति निराश हो जाता है उसे लगता है कि वह तो सफल ही नहीं हो सकता है। जिसके कारण मन शांत नहीं रहता है। मन में तरह-तरह के विचार आने लगते है। अपने मन को शांत रखने के लिए मल्टीटास्किंग को ना करें।

अपनी नींद को पूरा करें

पूरा नींद ना लेना भी मन और दिमाग का शांत न रहने का कारण बन सकता है। नींद एक बहुत जरूरी हिस्सा होता है शरीर के लिए। लेकिन जब नींद पूरा नहीं होता है तब बहुत से मुश्किल का कारण भी बनता है। अगर सही तरीके से और पूरा नींद ना लिया जाए तो मन बेचैन हो सकता है।

यह भी पढ़े: जल्दी नींद के उपाय

समय-समय पर बाहर घूमने जाएं

एक स्थान पर लम्बे समय तक रहने से मन में बेचैनी होने बढ़ जाती है। एक स्थान पर रहने पर मन भी नहीं लगता है। मन में तरह-तरह की बेचैनी होने लगती है। अपने मन को शांत करने के लिए समय-समय पर बाहर का घूमते रहना चाहिए। घूमने से हम सभी चिंता को कम कर देते है। हम यह भूल जाते है कि हमें किसी भी प्रकार का चिंता या काम है।

यह भी पढ़े: ज्यादा सोचने से कैसे बचे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here