धन का लाभ, नुकसान, महत्व और धन के रूप हिंदी में

आज के समय में जिसके पास धन है, वो समाज में सम्मानित जीवन व्यतीत कर सकता है। धन की सहायता से अपने बच्चो को अच्छे स्कूल में शिक्षा दिलाकर उनके उज्जवल भविष्य की कामना की जा सकती है।

मरीज और बीमार व्यक्ति इस धन की सहायता से अपना इलाज अच्छे और बड़े अस्पतालों में आसानी से करा सकते है।

आजकल धन के होने से ऐसे बहुत सारे सांसारिक सुखो को भोगा जा सकता है जोकि आज के समय मनुष्य के लिए बहुत ही ज्यादा जरुरी माने जाते है जैसे की -अच्छा भोजन,अच्छे कपडे, मोबाइल, टेलीविज़न, फ्रिज,वाशिंग मशीन ,मोटर कार इत्यादि।

आजकल हर कोई धन का संग्रह करने का प्रयास कर रहा है। जिसके लिए लोग नैतिक एवं अनैतिक सभी तरीको का इस्तेमाल कर रहे है जोकि समाज के लिए गंभीर विषय है।

जिसके कारण समाज में बना हुआ संतुलन बिगड़ने की आकंक्षा हर समय बानी रहती है। आज के महंगाई के इस समय में भोजन से लेकर स्कूल में एडमिशन तक सभी चीज़ो के लिए धन की आवश्यकता पड़तीहै।

धन के होने और न होने का प्रभाव आपके सामाजिक एवं व्यहवारिक जीवन पर भी साफ़ तौर पर देखा जा सकता है अगर आपके पास अधिक मात्रा में धन है तो आपके पडोसी, मित्र एवं रिश्तेदार आपको स्नेह और सम्मान की नजर से देखते है।

धन का लाभ, नुकसान और महत्व
धन का लाभ, नुकसान और महत्व

अगर आपके पास धनी नहीं है तो वही लोग आपको तुच्छ एवं उपेक्षा की दृष्टि से देखते है। अगर आपके पास धन की कमी है तो आप अपनी मूलभूत इच्छाओ को भी बहुत कठिनाई से प्राप्त कर पाते है और उनको पूरा करने में आपका बहुमूल्य समय व्यतीत हो जाता है।

धन को जीवन में बहुत ही आवश्यक वास्तु माना जाता है हालाँकि ये समय, प्यार, देखभाल जैसी चीजों को नहीं खरीद सकता है।

धन की कमी होने से आजकल बहुत सारे परिवारों में पारिवारिक कलह को भी देखा जा सकता है जिसका वेवहिक जीवन पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। बहुत बार ये प्रभाव वैवाहिक जीवन के अंत का कारण भी बन सकता है।

आज के समाज में किसी व्यक्ति को सम्मान का पात्र तभी समझा जाता है जब उसके पास धन होता है अन्यथा निर्धन लोगो को आज का समाज उपेक्षा की दृष्टि से देखता है।

Advertisement

यह भी जाने: मोबाइल फ़ोन का फायदे और नुकसान

धन के लाभ – Advantages of Money

भौतिक सुखो की प्राप्ति

जैसा की हम भली भांति जानते है आज के समय धन के बिना कोई भी व्यक्ति अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकता है। कोई भी छोटी या बड़ी वस्तु को खरीदने के लिए मनुष्य के पास धन का होना अनिवार्य है।

इस संसार में भौतिक सुखो को भोगने के लिए मनुष्य को धन की आवश्यकता होती है अन्यथा व्यक्ति सांसारिक सुखो को नहीं भोग सकता है।

धन की सहयता से भौतिक सुख जैसे अच्छे कपडे ,अच्छा माकन , पौष्टिक भोजन, जीवन व्यतीत करने के लिए मूलभूत वस्तुए ,उच्च शिक्षा इत्यादि हासिल किया जा सकता है।

सम्मानित जीवन

आज के समाज हर एक व्यक्ति सम्मान को पाने का अभिलाषी है, हर कोई दूसरे व्यक्ति की दृष्टि में सम्मान पाने की लालसा रखता है मगर आज के कुंठित समाज में उस व्यक्ति को ही सम्मान का पात्र समझा जाता है जिसके पास धन एवं समृद्धत्ता होती है।

जिस व्यक्ति के पास धन की कमी होती है उस व्यक्ति को आजकल समाज में निर्धन एवं सम्मान का पात्र नहीं माना जाता है।

सुरक्षा का अनुभव

आजकल के इस वातावरण में लोग सुरक्षित महसूस नहीं कर पा रहे है, जिसका मुख्य कारण अपराध एवं भ्रष्टाचार है। सीधे शब्दों में अगर कहा जाये तो धन ही एक ऐसा मुख्य कारण है जो अपराध एवं भ्रष्टाचार को जन्म दे रहा है।

जिस व्यक्ति के पास प्रचुर मात्रा में धन होता है वो धन की सहायता से अपने लिए सुरक्षा के साधन उपलब्ध करवा सकता है। इस दृष्टि से देखा जाये तो धन बहुत ही उपयोगी है।

धन से होने वाले नुकसान – Disadvantages of Money

जैसा की हमने ऊपर इस post में धन से होने वाले लाभों के विषय में बताया है अब हम धन से होने वाले नुकसानो के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे.

यह भी जाने: इंटरनेट के फायदे और नुकसान

Advertisement

सामाजिक एवं पारिवारिक कलह का कारण

धन जिस प्रकार लोगो को सुख की अनुभूति कराता है उसकी दूसरी और लोगो के सामाजिक और पारिवारिक सुख को बर्बाद भी कर देता है।

भारत जैसे देश ये बहुत बार देखा गया है अगर किसी घर में आर्थिक तंगी है तो वह पारिवारिक कलह बहुत अधिक बढ़ जाता है।

जिसका दुष्प्रभाव पारिवारिक और दाम्पत्य जीवन पर साफ़ देखा जाता है। धन की कमी से सामाजिक एवं पारिवारिक कलह दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है।

शोषण का कारण

आज के समय में शोषण समाज का एक बहुत ही गंभीर मुद्दा कहा जा सकता है जिसके कई कारण हो सकते है मगर धन शोषण का एक मुख्य कारण है।

जिसके बल पर बलवान एवं धनि अपने से निर्बल एवं निर्धन व्यक्ति का कई प्रकार से शोषण कर सकता है, हमारे समाज में धन के आधार पर शोषण किये जाने की मानसिकता कई सो वर्षो से चली आ रही है।

इतिहास में पीछे जाकर देखा जाये तो पुराने समय में बड़े-बड़े जमींदार अपने से कमजोर और निर्धन लोगो का शोषण किया करते थे।

भ्रष्टाचार का कारण

आजकल हर एक व्यक्ति धन कमाने के लिए हरा प्रकार का तरीका अपनाने के लिए तत्पर रहता है, इसके लिए वो इस बात को भी भूल जाते है कि वो जिस धन का संग्रह कर रहा है वो नैतिक है या अनैतिक। जिसके कारण भ्रष्टाचार एवं अपराध का जन्म होता है,

अपराध का कारण

आज हमारा देश एवं समस्त विश्व अपराध की समस्या जूझ रहा है जिसके कई कारण हो सकते है। जिसमे पैसा अपराध को बढ़ता एवं आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों को अपराध करने के लिए उकसाता है।

आजकल अपराध की दर दुनिया में बहुत अधिक बढ़ गयी है कोई भी अपराधी कुछ ही हजार रुपयों के लिए किसी की हत्या, लूटमार, चोरी, डकैती ,अपहरण जैसी गंभीर अपराधों को बड़ी आसानी से अंजाम दे रहे है। जिसके कारण देश में अपराध एवं भ्रष्टाचार बहुत तीर्व गति से फैलता जा रहा है।

धन के रूप – Forms of money

हमारे एवं अन्य देशो में धन के विभिन्न रूप होते है, जिसके कुछ मुख्य प्रकार निचे दिए गए है.

Advertisement
  1. कागज के नोट एवं सिक्के
  2. प्लास्टिक मनी जैसे की एटीएम
  3. इलेक्ट्रॉनिक मुद्रा (बिटकॉइन) क्रिप्टो करेंसी
  4. अचल संपत्ति जैसे जमीन-जायदाद,फैक्ट्री, कारखाने इत्यादि
  5. सोना, चांदी, हीरे के आभूषण
  6. शेयर, बांड्स, म्यूच्यूअल फंड्स आदि

धन की सीमाएं – Limitations of Money

जिस प्रकार हम धन से बहुत सारी वस्तु का क्रय एवं विक्रय कर सकते ठीक उसी प्रकार धन की कुछ सीमाएं भी है जो की कुछ इस प्रकार है.

  1. धन से किसी मरे हुए व्यक्ति को जीवन नहीं दिया जा सकता है।
  2. ये मात्र लें एवं देन का साधन मात्र है।
  3. धन की सहायता से कोई भी व्यक्ति प्रेम एवं देखभाल जैसी अनुभूति की प्राप्ति नहीं कर सकता है।

धन का महत्व Importance of Money

आज के समय शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जो धन के महत्व को नकार सके। जिस प्रकार हमको जीने के लिए वायु एवं भोजन की आवश्यकता होती है। ठीक उसी प्रकार धन भी हमारे जीवन में ठीक उसी अनुपात में महत्व रखता है।

अगर दूसरे शब्दों में कहा जाये तो एक सुखी जीवन को व्यतीत करने के लिए धन का होना अनिवार्य है।

आत्मनिर्भरता

धन एक ऐसी वस्तु है, जिसको प्राप्त करने के बाद मनुष्य आत्मनिर्भरता को बहुत आसानी से प्राप्त कर सकता है,अगर आप आत्मनिर्भरता हो जाते है तो आपको किसी से भी किसी प्रकार की आर्थिक मदद मांगने की आवश्यकता नहीं पड़ती है कहने का तात्पर्य ये है की आप अपनी इच्छा से कुछ भी चीज़ का क्रय एवं विक्रय कर सकते है।

आर्थिक तंगी का निवारण

धन की प्राप्ति होने के पश्चात आपकी आर्थिक तंगी दूर हो जाती है, अगर आपकी आय काम है फिर भी अपनी मूलभूत दैनिक उपयोग में आने वाली वस्तुओ को खरीद सकते है ऐसे आपने बहुत अधिक लोग देखे होने जो बहुत अधिक धन कमाते है मगर अच्छी व्यवस्था न होने के कारण क़र्ज़ में डूबे रहते है।

आनंदमय जीवन का सुख

अगर आप के पास प्रचुर मात्रा में धन है तो आप एक खुशहाल जीवन व्यतीत करने की कामना कर सकते है क्युकी धन के माध्यम से आप ऐसे बहुत से सुख साधन है जिनको प्राप्त करके एक आनंदमय जीवन की प्राप्ति कर सकते है।

पारिवारिक सुख

धन की प्राप्ति होने पर आप अपने अतिरिक्त अपने परिवार एवं बच्चो को भी खुशहाल जीवन जीने का धिकार देते हो , जिसका प्रभाव आपकी जीवन शैली ,दैनिक कार्य ,पारिवारिक वातावरण ,बच्चो की मानसिकता पर साफ़ तौर से दिखाई दे सकता है।

आर्थिक मदद

अगर आपके पास प्रचुर मात्रा में धन है तो आप अपने आस पास के पड़ोसियों, मित्रो, रिश्तेदारों, एवं परिचितों की उनके बुरे एवं आवश्यकता के समय में आर्थिक मदद कर सकते है।

निष्कर्ष

आज के पोस्ट में हमने धन की उपलब्धता एवं जीवन में उसके महत्व के बारे में विस्तार से चर्चा की है। हमने जाना कि पैसा के लाभ क्या है और पैसा के नुकसान क्या होते है। हमने धन के बारे सब कुछ जानने की कोशिश की है।

हम ऐसी आशा करते है आपको हमारा ये पोस्ट पसंद आएगा और भविष्य में भी आप हमारे साथ ऐसे ही बने रहेंगे।

Advertisement
Previous articleSocial media की पूरी जानकारी हिंदी में
Next articleबिज़नेस प्लान कैसे बनाये? | How to make a business plan in Hindi
आपका tvhindinews.com पर स्वागत है। हमें success rules, tips और जीवन से जुडी बातें लिखना पसंद है। हम आपके साथ अच्छा से अच्छा ज्ञान share करते है। Email ID: [email protected]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here