साहसी और बहादुर कैसे बने | How to be brave in hindi

साहसी कैसे बने? अगर आपके मन में भी यह सवाल आता है कि आप साहसी कैसे बने। तो चलिए हम जान लेते है.

इस जिंदगी में कुछ भी बड़ा करने और बड़ा हासिल करने के लिए साहस की जरूरत होती है। साहस की कमी के कारण हम गलत व्यक्ति को कह नहीं पाते है कि आप गलत है.

साहस की कमी के कारण हम वह नहीं कर पाते है जो की हम करने के सपने देखते है। साहस के न होने के कारण हम खुद को दूसरे से कमजोर मान लेते है।

यह भी पढ़े: मानसिक रूप से मजबूत कैसे बने

साहसी और बहादुर कौन होता है

अब यह सवाल हो सकता है कि साहसी कौन होता है। साहसी और बहादुर वह इंसान नहीं होता है जो कि शारीरिक रूप से ताकतवर हो। न नहीं वह भी इंसान साहसी होता है जिसके पास किसी तरह का कोई power होता है।

साहसी वह होता है जो अपने डर को डरा सके। वह ऐसा कर सके जिसके बारे में दूसरे सोच भी न सके।

साहसी वह होता है जो कि किसी भी परिस्थिति में टूटे न। साहसी वह होता है जो वह करता है जो कि उसके लिए सही हो।

साहसी वह होता है जिसके अंदर कुछ करने की इच्छा होती है। बहादुर वह इंसान होता है जो कि शारीरिक रूप से मजबूत होने के साथ ही उसके पास साहस भी हो।

यह भी पढ़े: चतुर और चालाक कैसे बने

साहसी कैसे बने

sahasi kaise bane
sahasi kaise bane

अब आपके मन में यह सवाल हो सकता है कि साहसी कैसे बने? अगर आप के अंदर यह सवाल है तो चलिए हम जान लेते है कि साहसी कैसे बना जा सकता है।

Advertisements
Loading...

एक इंसान किसी काम, चीज में साहसी होता है तो दूसरे काम, चीज़ में साहसी नहीं होता है। किसी भी इंसान को हर एक काम या चीज में साहसी नहीं बनना चाहिए।

जैसे अगर आप अपने बिज़नेस या पढ़ाई को लेकर काफी साहसी है। आप ऐसे -ऐसे फैसले लेते है जिसको दूसरे छात्र कभी नहीं ले सकते है। तो इस काम में वह साहसी है

अगर आप तेज वाहन चलाने में अपने मित्रो के जैसे साहसी है। ऐसे में आपको कभी भी तेज वाहन चलाने में साहसी नहीं बढ़ाना चाहिए।

यह साहस आपको नुकसान कर सकता है। दूसरे शब्दों में आप खुद को उसी काम में साहसी बनाये जो काम आपके लिए जरुरी और फायदे मंद हो।

हर एक काम में साहसी न बने। इससे आपको ही नुकसान हो सकता है।

यह भी पढ़े: मानसिकता कैसे बदलें

खुद को challenge करें

आप खुद को challenge भी करें। आपको जिस भी काम में डर लगता है या फिर जिस काम को करने में आपको साहस की जरूरत होती है।

तो फिर आप उस काम के लिए खुद को challenge करें। आप खुद को साहसी बनने के challenge करते रहे। आप खुद को हर एक चीज़ के challenge करें। तो ही आप वह कर पाएगे जो दूसरे नहीं कर पाते हैं।

डर को खत्म करें

डर है वह बीमारी है जो कि हमारे अंदर के साहस को खत्म कर देती है। हम चाहे डर को खुद ही पैदा करे या फिर हमें कोई और डर दिलाये।

साहस हमारा ही कम और खत्म होता है। कभी भी एक इंसान के अंदर दोनों चीज नहीं रह सकते है।

Advertisements
Loading...

साहस के रास्ते में सबसे पहले हमारे सामने डर ही आता है। डर ही हमारे अंदर के साहस को कम और ख़त्म कर देता है।

डर चाहे कम हो या फिर ज्यादा पर साहस को कम कर देता है। खुद को साहसी बनाने के लिए आप सबसे पहले अपने अंदर के डर को खत्म करें।

आपके अंदर कोई भी डर हो सकता है। कभी हम ऐसी चीज़ से डरने लगते है जो कि डर वास्तव में होता नहीं है।

खुद को साहसी माने

आप जैसा खुद को मानते है आप वैसा ही बन जाएगे। अगर आप खुद को डरपोक मान लेते है तो आप डरपोक बन ही जाएगे।

आप खुद को बहादुर और साहसी मान लेंगे तो आप साहसी बन जाएगे। खुद को साहसी मानने के लिए आप खुद पर विश्वास रखें

आप जितना खुद पर विश्वास रखेंगे आप खुद को उतना ही साहसी बना पाएगे।

आप खुद को कहे कि आप एक साहसी और बहादुर है। वक्त आने पर आप यह दुनिया के सामने साबित कर देंगे कि आप एक बहुत ही साहसी इंसान है। ऐसा रोज सुबह खुद से कहे।

साहसी काम करें

साहसी होने के लिए साहसी काम भी करना जरूरी होता है। बस खुद को साहसी सोच कर या मान कर साहसी नहीं बनाया जा सकता है।

ऐसे काम भी करने होते है जो साबित करे की आप साहसी है। यह दुनिया बस देखना पसंद करती है न की सुनना।

अपने साहस को बढ़ाने के लिए आप साहसी काम भी करते रहे। साहसी काम वह हो सकते है जिस काम को करने में आपको किसी भी प्रकार का कोई डर लगता है।

Advertisements
Loading...

जैसे अगर आपको किसी से बात करने में डर लगता है तो फिर आप अकसर नय लोगो से बात करते रहे।

यह भी पढ़े: शर्म को कैसे दूर करें

शारीरिक ताकत को बढ़ाये

शारीरिक ताकत भी हमें बहादुर बनाती है और दूसरों भी हमारे शरीर को देखकर समझ पाते है कि हम बहादुर है।

शरीर को बस एक दिन में ही ताकतवर नहीं बनाया जा सकता है। हम आपको बता दे कि बस वह व्यक्ति ही बहादुर या साहसी नहीं हो सकता है जो शारीरिक रूप से ताकतवर हो. साहसिक वही होता है जो की अंदर से साहस से भरा हुआ हो।

शारीरिक ताकत हमें यह महसूस करती रहती है कि हम शारीरिक रूप से स्वस्थ है। हमें किसी भी तरह की कोई कमी नहीं है।

यह एहसास भी काफी मयाने रखती है। इस एहसास को पाने के लिए ही हम दूसरे से पूछते रहते है कि हम बहादुर और साहसी है या फिर नहीं।

अब अगर आप शारीरिक रूप से ताकतवर होंगे तो आपको यह एहसास किसी और नहीं नहीं लेनी होगी।

हम आपको बता दे कि हर एक काम में साहसी होने के लिए शारीरिक ताकत की जरूरत नहीं होती है।

तो अगर आप ऐसे काम में साहसी होना चाहते है तो फिर आप शारीरिक ताकत को ही सब कुछ न मान ले।

साहसी लोगों के साथ रहे

कुछ भी बनने के लिए सबसे आसान तरीका होता है वैसे लोगो के साथ रहना जैसा बनान चाहते है। अगर आप डरपोक बनना चाहते है तो आपको डरपोक लोगो के साथ रहना चाहिए।

Advertisements
Loading...

वही अगर आप साहसी बनना चाहते है तो आप साहसी लोगो के साथ रहे। हम जैसे भी लोगो के साथ रहते है वैसा ही हमारा सोच, विचार, हाव-भाव, हो जाता है। साहसी ही नहीं आपको जो भी बनना हो आप वैसे ही लोगो के साथ रहे।

अंधेरे में रहना सीखें

हम सभी इंसान को बचपन से ही अंधेरे से डर लगता है। अंधेरे में हमारा साहस बिल्कुल ही खत्म सा हो जाता है। इसके पीछे का कारण होता है बचपन में सुनाई हुई कहानी है।

जैसे अंधेरे में भूत होता है। अंधेरे में ऐसा होता है, वैसा होता है, आदि। यह सभी के कारण ही हमें अंधेरे में डर लगता है।

साहसी बनने के लिए आप अंधेरे में रहना पसंद करें। आप जब भी अंधेरे में रहेंगे तब आप अपने डर को खत्म करके आप खुद के साहसी बनाते जाएगे।

पुरानी बातों का सत्य जाने

हर एक इंसान बचपन में बहुत कुछ सीखता है। अधिकतर इंसान बचपन में ऐसा होता है कि उसे जो भी सीखने को मिलता है उसे वह बस सिखाता जाता है।

वह कोई सवाल नहीं करता है कि वह जो कुछ भी सीख रहा है क्या वह सही है या फिर गलत। भले ही वह जानकारी गलत ही क्यों न हो।

पर सीखने के बाद वह हमारे जीवन का हिस्सा बन जाता है। जैसे अगर एक लकड़ा बचपन से ही सुनता आ रहा है कि धुप में खड़ा नहीं होना चाहिए।

भले ही धुप में खड़ा होना सही हो या फिर नहीं पर वह लड़का बड़ा होकर भी धुप में खड़ा नहीं होगा।

उस लड़के को धुप में खड़े होने के लिए साहस की जरूत होगी। अगर वह लड़का जान जाए कि यह सत्य नहीं है। तो वह बिना किसी डर के धुप में खड़ा हो सकता है।

दूसरे शब्दों में उस लडके को धुप में खड़ा होने के लिए किसी भी साहस की जरूरत नहीं होगी।

Advertisements
Loading...

आप अपने साहस को बढ़ाने के लिए सत्य को जानने की कोशिश करें। आप जानने की कोशिश करें की आपका डर सही है या फिर नहीं।

यह भी पढ़े: personality development tips in hindi

अंत में

हमें जाना कि हम कैसे साहसी बन सकते है? हर एक काम को करने के लिए motivation और साहस की जरूरत होती है।

बिना साहस के हम कुछ भी नया नहीं कर पाते है। आपको यह जानकारी कैसी लगी आप हमें बता सकते है।

Previous articleमानसिकता कैसे बदलें? | how to change the mindset in Hindi
Next articleकिसी व्यक्ति को कैसे भूले, किसी को भुलाने का तरीका
आपका tvhindinews.com पर स्वागत है। हमें success rules, tips और जीवन से जुडी बातें लिखना पसंद है। हम आपके साथ अच्छा से अच्छा ज्ञान share करते है। Email ID: [email protected]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here